Wednesday, October 17, 2007

बहुत हो चुका, अब हिंदी में लिखेंगे !

चिटठा (chittha) = hindi for blog
Waves of good writers in hindi is hitting the shores of the blogworld. Thanks to the blog service providers like blogspot which have inbuilt support for indic langauges, finally the language which i remember from my lessons :

"जैसी बोली जाती है वैसी ही लिखी जाती है "

is coming into its own. http://www.blogvani.com/ compiles some of these.

I will keep writing in the language that i speak -- hinglish.

3 comments:

काकेश said...

thanks for plaaning to write in hindi. You will definetly enjoy it.

आप जरूर हिन्दी पसंद करेंगे. समय मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी चक्कर लगा लें.

http://kakesh.com

अजित said...

शुक्रिया विशालजी,
आप ज़रूर हिन्दी में लिखें, मुझ जैसे मराठीभाषी को ये मातृभाषा और राष्ट्भाषा का सुख देती है। अलबत्ता राजभाषा का सुख तलाशने वालों ने इसे इतना कठोर और चिड़चिड़ा बना दिया है कि इसके उस रूप से मुझे भी चिढ़ हो गई है । लिहाज़ा मैं तो हिन्दी को हिन्दुस्तानी कहना ज्यादा पसंद करता हूं जिसमें बृज, अवधी,बुंदेली,भोजपुरी की खुशबू है और उर्दू का तड़का है।
बढ़ते रहें आगे....

Anonymous said...

Hello vishal,

Thanks for telling people about blogvani. We hope that someday you will start writing in Hindi too, and we would love to add your blog on blogvani.

Regards
Cyril Gupta
Blogvani